Bangalore News: ऑटो-सेवा बंद करें कैब कंपनियां… कर्नाटक सरकार ने क्‍यों दिया ऐसा आदेश, जानें

बेंगलुरु: कर्नाटक सरकार ने ऐप बेस्‍ड कैब सर्विस प्रोवाइडर कंपनियों को शहर में उनकी ‘गैर-कानूनी’ ऑटो रिक्शा सेवा को बंद करने का निर्देश दिया है। सरकार का कहना है कि यह नियमों का उल्लंघन है। ओला-उबर जैसी कंपनियों के साथ काम करने वाले ऑटो रिक्शा की ओर से ज्यादा किराया वसूले जाने की शिकायतें मिलने के बाद सरकार ने यह कदम उठाया है। हालांकि, सरकार ने कंपनियों को तीन दिन का समय दिया है ताकि वे अपनी ऑटो रिक्शा सर्विस से जुड़ी जानकारी परिवहन विभाग के साथ साझा कर सकें।

कर्नाटक राज्य सड़क परिवहन प्राधिकरण ने बुधवार को कंपनियों को इस संबंध में नोटिस जारी किया। नोटिस में कहा गया है कि इन कैब कंपनियों को ‘कर्नाटक ऑन-डिमांड परिवहन तकनीक एग्रेगेटर्स नियम -2016’ के तहत सिर्फ टैक्सी सेवा प्रदान करने की अनुमति दी गई है। आदेश में कहा गया है नियमों के अनुसार सिर्फ टैक्सी सेवा मुहैया कराई जा सकती है और टैक्सी से तात्पर्य मोटर-कैब से है जिसमें चालक के अलावा छह से ज्यादा लोगों के बैठने की सुविधा ना हो और जिसके पास सार्वजनिक वाहन का परमिट हो।

कैब ड्राइवर को 20 नहीं 50 थप्पड़ पड़ने चाहिए, अब यह बोली लड़की

सर्विस प्रोवाइडर कर रहे नियम का उल्लंघन
विभाग ने आगे कहा है क‍ि विभाग के संज्ञान में आया है कि कुछ सर्विस प्रोवाइडर इस नियम का उल्लंघन करके ऑटो रिक्शा सेवा भी दे रहे हैं। विभाग को यह भी पता चला है कि ग्राहकों से सरकार की ओर से तय सीमा से ज्यादा किराया वसूला जा रहा है। परिवहन विभाग ने अपने नोटिस में कहा है क‍ि इसलिए आपको सूचित किया जाता है कि तत्काल प्रभाव से ऑटो रिक्शा सेवा बंद करें…

‘कैब कंपनियां ग्राहकों से बहुत ज्यादा किराया वसूल रही’

इस बीच, ओला-उबर ड्राइवर्स एंड ऑनर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष तनवीर पाशा ने कहा कि कैब कंपनियों को लाइसेंस सिर्फ टैक्सियों के लिए मिला हुआ है ऑटो रिक्शा के लिए नहीं। उन्होंने आरोप लगाया कि कैब कंपनियां ग्राहकों से बहुत ज्यादा किराया वसूल रही हैं। पाशा ने यह भी कहा कि एसोसिएशन ने एक साल पहले इस संबंध में परिवहन विभाग में शिकायत दर्ज करायी थी, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई।

UP Election 2022: प्रियंका के सामने बीजेपी पर कैब वाले ने निकाला गुस्सा

ओला कैब सेवा चलाने वाली कंपनी ने नहीं दी प्रतिक्र‍िया
वहीं, ओला कैब सेवा चलाने वाली कंपनी ‘एएनआई टेक्नोलॉजी प्राइवेट लिमिटेड’ ने मामले में प्रतिक्रिया देने से इंकार कर दिया है। परिवहन विभाग के अधिकारियों से भी इस संबंध में प्रतिक्रिया नहीं मिली है।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.